पुलिसिया तबादले -डैमेज कंट्रोल या प्रोत्साहन

पुलिसिया तबादले -डैमेज कंट्रोल या प्रोत्साहन

न्यूज़ दर्पण डेस्क ,गाज़ीपुर

चाहे कोई बलवान हो , हीरा हो या पन्ना ,भाजपाइयों की हठधर्मिता सर्वपरि है । तभी तो बलवान सिंह के बाद एक और थानाध्यक्ष सत्ताधारी भाजपाइयों की ज़िद में तबादलों की भेंट चढ़ गया। हालांकि की कासिमाबाद व खानपुर के तत्कालीन प्रभारियों को नए थाने देकर सज़ा दी गयी या प्रोत्साहन, ये अपने आप मे भी एक बहस का मुद्दा है। अब खानपुर थानाध्यक्ष को उनकी बदजुबानी, और अड़ियल रवैये वाला पुलिसकर्मी बताकर इलाकाई भाजपाजनों ने खूब हो हल्ला मचाया और उनको हटाने पर वह एकदम से अड़ गए ,बात न बनती देख मंडल स्तरीय कार्यकर्ताओं ने सामूहिक इस्तीफ़ा तक दे दिया ,तब जाकर पार्टी का जिला नेतृत्व उसे संज्ञान में लिया। पहले सामूहिक इस्तीफा देने वालों को कड़ाई से अनुशासन का पाठ पढ़ाया गया,चेतावनी भी दी गयी और अब पन्नेलाल को वहां से हटा दिया गया है। लेकिन महकमे ने पन्नेलाल को एक बार फिर लाइन में न भेजकर दुल्लहपुर थाने के इंचार्ज की कुर्सी सौंप दी गई है और इनकी यह तैनाती जितेंद्र बहादुर सिंह की जगह हुई है, जिन्हें खानपुर का इंचार्ज बनाया गया है। कहा जाता है कि पन्नेलाल का विवादों से चोली दामन का साथ है। एक मामले में बिरनो थाने में फरियादी को लेकर पार्टी के मंडल महामंत्री विनोद गुप्त थाने में पहुंचे ही थे कि तत्कालीन एसओ पन्ने लाल एकदम से उखड़ गए थे और गालियों से नवाजते हुए उनको थाने से भगा तक दिया। उस समय भी घटना से तिलमिलाए पार्टी के जिला महामंत्री अवधेश राजभर की अगुवाई में कई वरिष्ठ नेता एसओ पन्नेलाल से दुर्व्यवहार का कारण पूछने गए तो उसी तरह का व्यवहार का सामना किया। तब भी सभी कार्यकर्ता आक्रोशित होकर थानाध्यक्ष के खिलाफ मोर्चा खोल लिए। उस समय भी लाइन में न भेजकर बिरनो से खानपुर भेज दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *