फैक्टिरी द्वारा प्रदूषण के खिलाफ ग्रामीण लामबंद,सड़क जामकर जताया विरोध

फैक्टिरी द्वारा प्रदूषण के खिलाफ ग्रामीण लामबंद,सड़क जामकर जताया विरोध

न्यूज़ दर्पण ,गाज़ीपुर

गाज़ीपुर ,वाराणसी राजमार्ग पर फत्तेऊल्लाहपुर गांव के समीप संचालित सुखबीर एग्रो एनर्जी लिमिटेड के प्रदूषण को लेकर मुश्किलें झेल रहे लोगों ने राष्ट्रीय राजमार्ग को जाम कर कम्पनी के बढ़ते प्रदूषण पर रोक लगाने की मांग की। विरोध प्रदर्शन की अगुवाई अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा युवा जिलाध्यक्ष राजकुमार सिंह ने की। क्षत्रिय संगठन व ग्रामीणों द्वारा सड़क जाम की सूचना पहुंचे क्षेत्राधिकारी भुड़कुुुुड़ा एवं क्षेत्राधिकारी नगर, उप जिलाधिकारी सदर ने जाम लगाये लोगों की मांगों को सुना और आश्वस्त किया कि प्रदुषण फैलाने वाली कम्पनी को संवैधानिक नियमानुसार नोटिस जारी कर अग्रिम कार्यवाही की जाएगी
इस सम्बन्ध में दिए गए ज्ञापन में इंगित किया गया है कि जनपद के ग्राम फत्तेउल्लाहपुर में स्थित सुखवीर एग्रो एनर्जी लि. से निकलने वाले धुयें व राख की वजह से कारखाने से 10 कि.मी. के क्षेत्र में प्रदुषण से लोगों का जीवन अस्त -व्यस्त हो चुका है। लोगों को सांस लेने में तकलीफ होती है और कई लोगों का स्वास्थ खराब होने की वजह से मृत्यु भी हो चुकी है।साथ ही आस-पास के गॉव के किसानों की सब्जी की खेती धुयें में राख उड़ने की वजह से चौपट हो चुकी है,किसान की लागत भी नही निकल रही है। आरोप लगाया कि कारखाने में निकलने वाली हानिकारक राख को सड़क के किनारे जहॉ तहॉ अपने मनमाफिक जगहों पर फेंक दिया जाता है और जब हवायें चलती है तो वह राख उड़ करके लोगों की सेहत खराब करती है। चेताया कि इससे पूर्व में भी कई बार स्थानीय लोगों एवं समाजिक संस्थाओं द्वारा आवाज उठाई गई, लेकिन कारखाने के मालिकान के राजनीतिक संबधों के चलते लोगों की आवाज दबा दी जाती है।

पंजाब के कांग्रेसी विधायक है कारखाने के मालिक

बताया जा रहा है कि कम्पनी के मालिक सुखवीर सिंह ऑवला,जसवीर सिंह ऑवला और तीसरे भाई रामसिंह ऑवला हैं जो पंजाब में कांग्रेस के विधायक है।
इस मौके पर बृजेश सिंह शेरू,सुमित सिंह,नीलेश सिंह, मनोज सिंह प्रत्याशी जिला पंचायत, शुभम सिंह, शिवम सिंह, सौरभ सिंह, मिथिलेश सिंह, तकदीर सिंह,पुष्कर सिंह,हैप्पी सिंह,हर्ष सिंह,दिव्यांश सिंह,अभय सिंह,रघु सिंह, अंकित सिंह,सुंदरम सिंह, शुभम सिंह,सुदामा बिंद,रघुराम राज एवं गांव के समीपवर्ती गावों के किसान शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *