पुलिसिया अभद्रता व भर्ष्टाचार के खिलाफ 6 घण्टे का धरना,शासन,प्रशासन के पसीने छूटे

पुलिसिया अभद्रता व भर्ष्टाचार के खिलाफ 6 घण्टे का धरना,शासन,प्रशासन के पसीने छूटे

ग्राउंड रिपोर्ट,न्यूज़ दर्पण, कासिमाबाद

दोपहर के 12 बजे तक कासिमाबाद समेत पूरे कोतवाली क्षेत्र में सबकुछ सामान्य था। तभी एक मामले में कानूनी कार्यवाही की स्थिति जानने आये भाजपा नेता शिवप्रताप सिंह व कोतवाल बलवान सिंह के बीच हुई कुछ पलों की एक बहस ने पूरी कासिमाबाद कोतवाली को सम्मान व मर्यादा के संघर्ष का कुरुक्षेत्र बना दिया। इस मुद्दे पर दोपहर होते होते लोग लामबन्द होने लगे। आरोप था, कोतवाल द्वारा अभद्र भाषा का प्रयोग।

इसके बाद गुस्साए भाजपा कार्यकर्ता कोतवाली में ही धरना शुरू कर दिए। खबर अधिकारियों तक गयी और इसको लेकर अधिकारियों में भी अफरा तफरी मच गई। गौरतलब है कि यह धरना उस समय शुरू हुआ जब एक तरफ अधिकारी किसानों के आंदोलन को लेकर सपाइयों एवं अन्य विपक्षी दलों को धरना देने से रोक रहे हैं ,दूसरी तरफ भाजपा समर्थकों ने कोतवाल को हटाने के लिए कोतवाली में ही धरना शुरू कर दिया। अधिकारी हलकान रहे और जिले में लागू निषेधाज्ञा के बीच यह धरना चर्चा का विषय बना रहा।

कार्यकर्ताओं के सम्मान के लिए त्वरित कार्यवाही चाहते थे नेता

शिवप्रताप सिंह के समर्थकों व कोतवाल विरोधी जनों की भीड़ बढ़ती जा रही थी। अधिकारी धरना स्थल पर दौड़ पड़े। एसडीएम व सीओ गए बात की मगर धरनारत लोग इसे कार्यकर्ता के सम्मान की लड़ाई कहे । बातचीत का लंबा सिलसिला चला पर बात नहीं बनी। इस बीच एएसपी सिटी गोपीनाथ सोनी भी गए। धरना स्थल से उन्हें भी यह कहकर बैरंग लौटा दिया गया कि कोतवाल के निलंबन का फरमान लेकर आए। साथ ही कोतवाल पर कार्यकर्ताओं का सम्मान न करने,भ्र्ष्टाचार करने आदि जैसे गंभीर आरोप लगाए गए। अधिकारियों ने यह बात भाजपा के आला नेताओं तक पहुंचाई। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह ने भी शिवप्रताप सिंह को फोन किया और बोले, कार्यवाही की जाएगी आप धरना समाप्त करें।

प्रदर्शनकारी करते रहे हरिकीर्तन, गाते रहे भजन….

देश भर में चल रहे किसान आंदोलन की तर्ज पर देर शाम को धरने के दौरान प्रदर्शनकारियों ने इष्ट देव को याद करते हुए हरि कीर्तन एवं भजन भी शुरू कर दिया। जिसकी खूब चर्चा रही। समाजसेवी अभिजीत सिंह के नेतृत्व में युवाओं ने सामूहिक स्वर में भजन कीर्तन किया एवं जयकारे लगाए।

कार्यवाही के आश्वासन पर माने नेता,किया धरना समाप्त

देर शाम तक खचाखच भरे कोतवाली परिसर में शिवप्रताप सिंह व उनके समर्थकों पर धरना खत्म करने का दबाव बढ़ता जा रहा था साथ ही भाजपा मंडल अध्यक्ष संतोष गुप्ता पर भी संगठन से धरना खत्म करने के निदेश आने लगे थे। परंतु भीड़ त्वरित कार्यवाही की मांग पर डटी रही। इस बीच धरने की खासियत रही कि यह शांतिपूर्ण तरीके से चलता रहा केवल बीच बीच मे नारेबाजी होती रही। अंत में साढ़े छह घंटे तक चले धरने के बाद एसडीएम कासिमाबाद भारत भार्गव एवं सीओ महिपाल पाठक के आश्वासन पर यह धरना समाप्त हुआ।और अधिकारियों ने 48 घंटे के भीतर कोतवाल को हटाने का भरोसा दिया। तब शिवप्रताप सिंह व समर्थकों ने धरना समाप्त करने की घोषणा की। देर शाम भाजपाइयों के धरना समाप्त करने पर अधिकारियों ने राहत की सांस ली।

इनकी रही मुख्य भूमिका……..

धरना-प्रदर्शन में भाजपा नेता शिवप्रताप सिंह, मंडल अध्यक्ष संतोष गुप्ता, पूर्व ब्लाक प्रमुख ओमप्रकाश अकेला, भाजपा मंडल महामंत्री नीरज पांडेय, सौरभ सिंह, संतोष कुशवाहा, दीनानाथ ठाकुर,अभिजीत सिंह, नंदा राजभर, सुकहा के पूर्व प्रधान राजेश सिंह पप्पू, छोटू सिंह, अनिल सिंह, करणी सेना के जिलाध्यक्ष वेदप्रकाश सिंह बेदू, अभिजीत सिंह, भाजपा जिला उपाध्यक्ष पिछड़ा मोचा जिला उपाध्यक्ष शिवजी गुप्ता, मेठ प्रधान दीनानाथ ठाकुर, राजनारायण तिवारी, महेंद्र यादव सहित सैकड़ों नेता-कार्यकर्ता मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *